ज्वालामुखी

बाहर हवा में उड़ा हुआ लावा शीघ्र ही ठंडा होकर

ज्वालामुखी ( Volcano ) भू – पटल पर वह प्राकृतिक छद या दरार है , जिससे होकर पृथ्वी का पिघला पदार्थ लावा , राख , भाप तथा अन्य गैसें बाहर निकलती हैं । बाहर हवा में उड़ा हुआ लावा शीघ्र ही ठंडा होकर छोटे ठोस टुकड़ों में बदल जाता है , जिसे सिंडर कहते हैं । विस्फोट में निकलने वाली गैसों में वाष्प का प्रतिशत सर्वाधिक होता है । विस्फोट अवधि अनुसार ज्वालामुखी तीन प्रकार की होती है ।

Hindigk

Public Document

Number of times Signed
0
Number of Saves
0
Number of Downloads
148
Number of Views
857

This is version 1, from 2 years ago.

Suggest changes by making a copy of this document. Learn more.

Create Branch